16 साल से छोटी लड़की से 'सहमति का सेक्स' भी माना जाएगा रेप

12:54 PM Apr 09, 2016 |
Advertisement
पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट के दिए आदेश के अनुसार अगर सहमति से सेक्स किये जाने के मामले में लड़की 16 साल से कम की है तो उसे रेप माना जाएगा. ऐसे में सेक्शुअल ऐक्ट में शामिल लड़का क्रिमिनल कहा जाएगा. ये फ़ैसला 30 मार्च को एक केस के चलते आया है. जस्टिस चौधरी ने गुड़गाँव जिले में एक नाबालिग लड़की से रेप के केस में ये फ़ैसला दिया. उस केस में आरोपी का कहना था कि उसे सज़ा नहीं होनी चाहिए क्यूंकि सेक्स आपसी सहमति से किया गया था. कोर्ट ने उसकी अपील को ख़ारिज करते हुए कहा कि अगर लड़की 16 साल से कम की हुई तो उसकी सहमति को नहीं माना जाएगा. ऐसा इसलिए कहा क्यूंकि उनके मुताबिक़ इतनी छोटी उम्र में अपने किये कामों का नतीज़ा सोचने-समझने की क्षमता डेवलप नहीं हो पाती है. आरोपी ने 22 जनवरी 2010 को 15 साल की लड़की को किडनैप कर लिया था. कम्प्लेंट लिखवाने के वक़्त विक्टिम के पिता को अपराधी के बारे में कोई जानकारी नहीं थी. बाद में मालूम चला कि उनके ही घर में काम करने वाले नौकर ने ये कारनामा किया था. उसकी शादी हो चुकी थी और 2 बच्चे भी थे. 10 अक्टूबर 2010 को जिला अदालत ने उसे रेप  के आरोप में सज़ा सुन दी गयी थी. लेकिन फिर उसने सहमति से सेक्स का हवाला देते हुए हाई कोर्ट में अपील की. कोर्ट ने फ़ैसला सुनाते हुए कहा है कि ये लड़की के पार्टनर की ज़िम्मेदारी होती है कि उसकी छोटी उम्र और सोचने-समझने की कम क्षमता का फ़ायदा न उठाया जाए.
Advertisement
Advertisement
Next