सरकार ने ध्रुव राठी का वीडियो बैन कर दिया!

07:26 PM Sep 26, 2022 | सोम शेखर
Advertisement

सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने यूट्यूब (Youtube) को अपने प्लैटफ़ॉर्म से 45 वीडियोज़ हटाने के निर्देश दिए हैं. ये वीडियोज़ दस अलग-अलग चैनलों के हैं. ब्लॉक्ड वीडियोज़ में से एक वीडियो पॉपुलर यूट्यूबर ध्रुव राठी (Druv Rathee) का भी है.

Advertisement

ये फ़ैसला 23 सितंबर को लिया गया है. सुरक्षा एजेंसियों के इनपुट के आधार पर. सूचना और प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा,

"सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने 10 यूट्यूब चैनलों को बैन कर दिया गया है, सस्पेंड कर दिया गया है. जो देश के ख़िलाफ़ ज़हर उगलते हैं और पड़ोसी देशों के साथ हमारे संबंध ख़राब करने की कोशिश करते हैं. ये फ़ैसला देश के हित में किया गया है. भविष्य में भी ज़रूरत पड़ने पर ऐसा फिर किया जाएगा."

मंत्रालय का दावा है कि इन वीडियोज़ में समुदायों के बीच नफ़रत फैलाने के इरादे से फर्जी ख़बरें फ़ैलाई गईं. फर्जी वीडियोज़ फैलाए गए. मंत्रालय ने ये भी कहा कि इन वीडियोज़ में 'झूठे दावे' किए गए हैं. जैसे, सरकार ने कुछ धार्मिक समुदायों के अधिकार छीन लिए, धर्म विशेष को हिंसक धमकियां दीं, देश में गृहयुद्ध की स्थिति बन रही है. सुरक्षा एजेंसियों ने दावा किया है कि इस तरह के वीडियोज़ सांप्रदायिक वैमनस्य पैदा कर सकती हैं और देश में पब्लिक ऑर्डर को बाधित कर सकती हैं.

ये रही ब्लॉक्ड चैनलों की लिस्ट -

इंडिया टुडे से जुड़े सुमित कुमार सिंह की रिपोर्ट के मुताबिक़, ब्लॉक किए गए वीडियोज़ में अग्निपथ योजना, भारतीय सेना, देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सिस्टम जैसे मुद्दों पर बातें थीं. मंत्रालय ने एक बयान में कहा,

“राष्ट्रीय सुरक्षा और विदेशी राज्यों के साथ भारत के मैत्रीपूर्ण संबंधों के दृष्टिकोण से इन वीडियोज़ का कॉन्टेंट ग़लत और सेंस्टिव पाया गया. और, IT नियम 2021 के प्रावधानों के तहत 23 सितंबर 2022 को संबंधित वीडियोज़ को ब्लॉक करने के आदेश जारी किए गए थे."

और, इन्हीं वीडियोज़ में एक वीडियो ध्रुव राठी का भी है. 


IT एक्ट की धारा 66ए को लेकर केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से क्या कहा?

Advertisement
Next