मंदिर के बाहर नकाब-चश्मा पहनकर BJP-RSS को खुलेआम धमकी दी, वीडियो पूरी दुनिया में फैल गया!

09:50 AM Sep 22, 2022 | दुष्यंत कुमार
Advertisement

ब्रिटेन में रह रहे हिंदू और मुस्लिम समुदायों के बीच तनाव बढ़ता दिख रहा है. बुधवार, 21 सितंबर को बर्मिंघम के नजदीक स्मेथविक शहर में बड़ी संख्या में मुस्लिम युवक एक हिंदू मंदिर के सामने विरोध प्रदर्शन करने पहुंच गए. यूके पुलिस ने एक प्रदर्शनकारी को गिरफ्तार करने की पुष्टि की है. इससे पहले मंगलवार को लेस्टर शहर में एक हिंदू मंदिर पर लगे झंडे को मुस्लिम प्रदर्शनकारियों द्वारा गिरा दिया गया था.

Advertisement

'हिंदुओं से नहीं, BJP-RSS से दिक्कत'

बर्मिंघम में हुए हंगामे की तस्वीरें और वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हैं. इनमें प्रदर्शनकारी मंदिर की दीवार के पास नारेबाजी करते दिख रहे हैं. वे ‘अल्लाह हू अकबर’ का नारा लगा रहे हैं. कुछ प्रदर्शनकारी मंदिर की दीवार पर चढ़ते भी दिख रहे हैं.

वहीं एक दूसरे वीडियो में एक नकाबपोश प्रदर्शनकारी BJP और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को धमकी देता दिख रहा है. उसका कहना है कि यूके में रह रहे हिंदुओं से उन्हें कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन BJP-RSS की विचारधारा वाले नेताओं को वे बर्दाश्त नहीं करेंगे. वीडियो में प्रदर्शनकारी कह रहा है,

"बर्मिंघम से BJP और RSS के समर्थकों को संदेश दे रहा हूं. तुम्हारा बर्मिंघम में स्वागत नहीं है. तुम्हारा लेस्टर में स्वागत नहीं है. यूके में कहीं भी तुम्हारा स्वागत नहीं है. ये जो तुम नफरती भाषण देने वालों को यहां बुला रहे हो, उन्हें हम यहां आने नहीं देंगे. इसलिए ये बकवास चीजें आयोजित करना बंद कर दो. हम यहां मंदिर के बाहर खड़े हैं. ये एक शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन है. हम किसी को परेशान नहीं कर रहे. हम यहां बस ये बताने आए हैं कि अगर तुम यहां आए तो हम तुम्हें यहीं मिलेंगे.

हमें ब्रिटिश हिंदुओं से कोई दिक्कत नहीं है. हम उन्हीं के साथ पले-बढ़े हैं. लेकिन BJP और RSS के लोग बर्मिंघम, लंदन या यूके में आए तो हमें बता दें हम वहां पहुंच जाएंगे."

इसी तरह के और भी वीडियो वायरल हैं. एक वीडियो में एक मुस्लिम शख्स कह रहा है कि मुस्लिम समुदाय के लोग किसी हिंदू नेता के वहां आने से नाराज हैं. उसने बताया कि कोई महिला मंदिर आने वाली थी, जिसे लेकर उन्होंने और सिख समुदाय के लोगों ने मंदिर से बात कर आपत्ति जताई. शख्स का दावा है कि उनकी शिकायत के तुरंत बाद ही मंदिर ने ये कार्यक्रम कैंसिल कर दिया था.

इस शख्स ने ये भी कहा कि बुधवार को हुए प्रदर्शन को लेकर लोग जजमेंट दे रहे हैं. विरोध के दौरान लगे नारों को ‘गलती’ बताते उसने कहा,

"इससे इलाके के हिंदू डरे हुए हैं. अगर मस्जिद के बाहर ऐसा हंगामा होता तो हम भी डर ही जाते. मैं बस ये कहना चाहता हूं कि ये उनके (हिंदू) आस्था की जगह है. हमें यहां आकर बवाल बढ़ाने की जरूरत नहीं है."

स्थानीय मुस्लिम समूहों की तरफ से इस विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया गया था. इंडिया टुडे की रिपोर्टके मुताबिक ये लोग एक महिला साध्वी को लेकर नाराज हैं. बताया गया है कि परम शक्ति पीठ की संस्थापक साध्वी ऋतंभरा को यूके का दौरान करना था. इस दौरान उन्हें लेस्टर और स्मेथविक (बर्मिंघम) स्थित मंदिरों में स्पीच देनी थी. हालांकि मुस्लिम समुदाय के विरोध के बाद इस कार्यक्रम को रद्द कर दिया गया.

यूके की पुलिस ने बर्मिंघम में कानून व्यवस्था के मामूली तौर पर प्रभावित होने की बात मानी है. उसने बयान जारी कर कहा कि एक हिंदू मंदिर के बाहर हंगामा किया गया था. इसके चलते वहां पुलिसबल तैनात करना पड़ा. पुलिस ने बताया,

"मंदिर के पास पहले पुलिस को तैनात किया गया था. विरोध के दौरान पुलिस के लोगों पर रॉकेटों से हमला किया गया. गनीमत रही कि किसी को चोट नहीं पहुंची. हम लगातार पुलिस सुरक्षा मुहैया करा हे हैं. समुदाय के नेताओं और बाकी लोगों से शांति बनाए रखने का आश्वासन ले रहे हैं. पूरे इलाके में निगरानी का काम जारी रहेगा."

उधर लेस्टर में हुए हंगामे को लेकर कई लोगों को गिरफ्तार किए जाने की जानकारी है. यहां मंगलवार को मुस्लिम समुदाय के नेताओं ने एक मस्जिद के बाहर इकट्ठा होकर शहर में शांति बनाए रखने की अपील की थी.

चलते-चलते एक जरूरी बात. सोशल मीडिया के साथ-साथ कुछ मीडिया रिपोर्टों में दी गई जानकारी से ऐसा लग रहा है कि यूके में तीन जगहों पर मुस्लिम समुदाय की तरफ से विरोध प्रदर्शन हुए हैं- लेस्टर, स्मेथविक और बर्मिंघम. ये जानकारी भ्रामक है. स्मेथविक बर्मिंघम के काफी नजदीक है. यहां स्थित दुर्गा मंदिर की घटना को स्मेथविक और बर्मिंघम दोनों जगहों के नाम से बताया जा रहा है, इसलिए ऐसा लग रहा है कि तीन जगहों पर हंगामा हुआ है.


इंग्लैंड में हिंदू-मुस्लिम तनाव के बीच सोशल मीडिया और वॉट्सऐप पर क्या वायरल हुआ?

Advertisement
Next