'पठान' में इस्तेमाल हुए हैं ये मॉडर्न गजेट्स, जो रौला काट देते हैं

03:39 PM Jan 25, 2023 | सूर्यकांत मिश्रा
Advertisement

'पठान' आज सिनेमा हॉल में रिलीज (Pathaan in the cinema hall) हो गई और जैसे हमारी सिनेमा टीम करती है, फिल्म का पहला शो भी देखा गया. अब इसमें आपको कुछ अजीब नहीं लगेगा लेकिन ये जानकर आप जरूर चौंक सकते हैं कि फिल्म में कई सारे अनोखे गजेट्स का इस्तेमाल हुआ है. मतलब ऐसे गजेट्स, जो आम ज़िंदगी में शायद ही आपको नजर आएं. हमें लगा कि इनके बारे में आपको बताना चाहिए. इतना पढ़कर आपको लगेगा टेक टीम वहां क्या कर रही थी, तो जनाब हमारे गाँव में शब्द है, लगेठा. मतलब पीछे-पीछे जाने वाला. तो हम भी ऐसे ही थे. सिनेमा संपादक जब टिकट बुक कर रहे थे, तो अपन भी साथ हो लिए. तो ये हैं तीन ज़बरदस्त गजेट्स. पढ़ते वक्त ध्यान रखें कि स्पोइलर हो सकते हैं. 

Advertisement

# इंसान के डिजिटल हमशक्ल वाला रिमोट

आभासी दुनिया, वर्चुअल वर्ल्ड के बारे में आपने सुना और देखा होगा. मेटावर्स की तो पूरी दुनिया ही इसी पर बेस्ड है. तकनीक की भाषा में कहें तो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का सबसे उन्नत संस्करण. 'पठान' में इससे जुड़ा एक शानदार प्रोडक्ट आपको देखने को मिलेगा. दरअसल शाहरुख और उनकी टीम AI की मदद से एजेंसी में अपने बॉस का डिजिटल हमशक्ल तैयार करती है. दीवार पर चलने वाले प्रोजेक्टर के जैसे एक इंसान हूबहू आपको सामने नजर आएगा, जबकि असल में वो वहां है ही नहीं. आपकी जानकारी के लिए बताते चलें कि दुनिया जहान में इस तकनीक पर खूब काम हो रहा है और वो दिन दूर नहीं जब असल में इंसान का सामना अपने हमशक्ल से हो जाए. वैसे फिल्म में इस तकनीक ने क्लाइमैक्स में अहम रोल भी अदा किया है लेकिन उसके लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी.

# सैटेलाइट फोन

सैटेलाइट फोन आपने बहुत सी फिल्मों में देखे होंगे लेकिन 'पठान' फिल्म की शुरुआत ही इसी से होती है. सैटेलाइट फोनमतलब जिसका मोबाइल नेटवर्क से कोई लेना देना नहीं. ऐसे फोन को अंतरिक्ष में भेजे गए सैटेलाइट से सिग्नल मिलता है. ये सैटेलाइट धरती की कक्षा में चक्कर लगा रहे होते हैं. ये जमीन पर लगे रिसीवर को रेडियो सिग्नल भेजते हैं. रिसीवर सेंटर सैटेलाइट फोन को सिग्नल ट्रांसमिट करता है, जिसके बाद बात करना संभव हो पाता है. इसे आम बोलचाल में 'सैट फोन' भी कहा जाता है. पहले सैटेलाइट फोन में सिर्फ कॉलिंग और मैसेज की सुविधा होती थी. लेकिन अब नए सैट फोन इंटरनेट सुविधाओं के साथ भी आ रहे हैं. ऐसे ही टॉप क्लास के सैट फोन का इस्तेमाल फिल्म का पूरा विलेन और आधा विलेन करते हैं. पूरा और आधा क्यों, इसका जवाब आपको फिल्म में ही मिलेगा. वैसे भारत में आम लोगों के लिए सैटेलाइट फोन के इस्तेमाल पर बैन लगा हुआ है. लेकिन आपदा प्रबंधन को संभालने वाली एजेंसी, पुलिस, रेलवे, बीएसएफ, सेना और दूसरी सरकारी एजेंसियों को जरूरत पड़ने पर सैटेलाइट फोन के इस्तेमाल की अनुमति दी जाती है.

सैटेलाइट फोन

# इंसान उड़ाने वाले पंखे

अगर आपका तकनीक की खबरों से थोड़ा भी वास्ता है तो पिछले साल जून की एक घटना आपको याद होगी. अमेरिका के कैलिफोर्निया राज्य में एक इंसान के उड़ने का वीडियो वायरल हुआ था. वीडियो में एक इंसान अपनी पीठ पर अजीब से सूट के  साथ उड़ता नज़र आता  है. वास्तव में ये एक तकनीक है, जिसका अभी परीक्षण चल रहा है. जेटपैक कहते हैं इसको. बस पंख की तरह अपने शरीर पर पहनो और फुर्र हो जाओ. लेकिन अपन तो 'पठान' की बात कर रहे. ऐसा ही कुछ यहां भी दिखाया गया है. शाहरुख और जॉन इसको पहनकर लड़ते नजर आएंगे. वैसे ये फिल्म है तो क्रिएटिव लिबर्टी के नाम पर सूट में कुछ ज्यादा ही फीचर दिखाए हैं. 

इनके अलावा भी काफी मॉडर्न गैजेटरी और वेहिकल्स हैं फिल्म में. जैसे तीन सिक्योरिटी लेयर वाली बॉल, एडवांस्ड रॉकेट लॉन्चर्स, हाई एंड कारें, चॉपर्स वगैरह, वगैरह. कहने का मतलब है कि स्पाई थ्रिलर्स में जो कुछ भी होना चाहिए, वो सब है. डिटेल में सब जानना है तो आपको फिल्म देखनी पड़ेगी. 

Advertisement
Next