फोन का डेटा तुरंत खत्म हो रहा है तो ये ट्रिक आपको बचा लेगी

05:52 PM Dec 15, 2022 | सूर्यकांत मिश्रा
Advertisement

कांग्रेससांसद जसबीर सिंह गिल ने 14 दिसंबर को लोकसभा में कहा कि Jio और Airtel इंटरनेट डेटा की लूट कर रहे हैं. रात में फोन रखो तो सुबह डेटा खत्म होने का मैसेज आ जाता है. लगता है भूत डेटा चुरा ले जाते हैं. अब नेता जी की शिकायत पर आईटी एवं संचार मंत्री अश्विनी वैष्णव ने क्या जवाब दिया, वो आप इस वीडियोमें देख सकते हैं. हम बात करते हैं डेटा के भूत की. अब तो 5G भी आ गया है और आपको भी डेटा जल्द खत्म होने की दिक्कत है तो ये कुछ मन्तर मार लीजिए.

Advertisement

डेटा की खपत को बचाने के बारे में जानने से पहले जरा कंपनियों की तरफ से मिलने वाले डेटा के विज्ञान को समझ लीजिए. कंपनियां अपने प्लैन्स को बेचने के लिए अनलिमिटेड कीवर्ड का सहारा लेती हैं. लेकिन साथ में छोटे-छोटे अक्षरों में यह भी बता देती हैं कि हाई-स्पीड डेटा की एक सीमा है और लिमिट खत्म होने पर एक निर्धारित स्पीड में इंटरनेट डेटा मिलेगा. ये जो स्पीड है वो देश की अर्थव्यवस्था की चाल से काफी मेल खाती है. मंद...मंद. धीमे...धीमे. हौले...हौले. प्लान के बारे में विस्तार से पढ़ेंगे तो पता चलेगा कि कंपनी ने आपको अनलिमिटेड डेटा देने का वादा तो किया था लेकिन हाई-स्पीड में सिर्फ 2 जीबी, उसके बाद 64kbps की स्पीड. 

अब करना क्या है ये भी जान लीजिए.

एंड्रॉयड स्मार्टफोन में

# सेटिंग्स में जाकर नेटवर्क सर्च कीजिए. डेटा के ऑप्शन नजर आएंगे.
# डेटा वार्निंग या लिमिट का ऑप्शन नजर आएगा. 
# मोबाइल डेटा यूसेज साइकिल पर क्लिक कीजिए.
# सेट डेटा लिमिट पर क्लिक कीजिए.
# रोजाना या महीने में मिलने वाली डेटा लिमिट को सेट कीजिए. आपके प्लान में इसका जिक्र होता है और आप संबंधित कंपनी के ऐप पर भी ये देख सकते हैं. 

एंड्रॉयड स्मार्टफोन

डेटा सेवर मोड

नाम से साफ पता चलता है कि ये जनाब डेटा की खपत पर लगाम लगाते हैं. सेटिंग्स में मिलेगा ये ऑप्शन. इसको ऑन करते ही ऐप्स बैकग्राउंड में डेटा को चूसना बंद कर देते हैं. कहने का मतलब जब आप ऐप ओपन करेंगे तभी वो डेटा इस्तेमाल करेगा. आप यहीं से ये भी निश्चित कर सकते हैं कि डेटा सेवर ऑन होने के बाद भी कौन सा ऐप बैकग्राउंड में उसका इस्तेमाल करे या नहीं.

ऐप्स अप टू डेट 

वैसे तो ऐप्स को अपडेट रखना जरूरी है ताकि वो ढंग से चलते रहें. कोई बग हो तो वो भी ठीक हो जाते हैं. लेकिन ऑटो अपडेट आपके डेटा में बग्स डाल डेटा है. मतलब डेटा की खपत हो जाती है. ऐप्स ऑटो अपडेट को सिर्फ वाई-फाई पर रखें. इसके लिए Google play पर जाइए और सेटिंग्स में जाकर Network preferences पर क्लिक कीजिए. यहां पर App download preference, Auto-update apps, and Auto-play videos नजर आएंगे. सभी को सिर्फ वाई-फाई के लिए हां कहिए.

अब बात iPhone वालों की 

डेटा लिमिट सेट करने का कोई ऑप्शन नहीं है आईफोन में, लेकिन आप इसको मॉनिटर करने के लिए अपने नेटवर्क ऑपरेटर के ऐप की मदद ले सकते हैं. ऐप के होम पेज पर ही रोज और महीने की डेटा लिमिट दिखती है. हां, बैकग्राउंड प्रोसेस आप भी बंद या लिमिट कर सकते हैं. ऐसा करने के लिए आपको सेटिंग्स में जनरल के अंदर ‘Background app refresh’ का ऑप्शन मिलेगा. चाहें तो पूरा ऑफ करिए या फिर ऐप के हिसाब से भी तय कर सकते हैं.

आईफोन

लो डेटा मोड भी आपको सेटिंग्स में ही मिल जाएगा. Cellular के अंदर झाकेंगे तो किस ऐप को डेटा इनेबल करना है और किसको नहीं, वो ऑप्शन भी है. इसके बाद ऐप्स ऑटो अपडेट को वाई-फाई पर करिए.


वीडियो: सोशल मीडिया पर खूब रौला काट रहा Lensa AI App महिलाओं के लिए सेफ नहीं है?

Advertisement
Next